साँची के स्तूप, मध्य प्रदेश

स्थल

  • सांची स्तूप मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से लगभग 52 किलोमीटर दूर स्थित है
  • सांची स्तूप का संबंध बौद्ध धर्म से है |
  • रांची में असंख्य बोल संरचनाएं हैं |
  • साँची जिसे काकानाया, काकानावा, काकानाडाबोटा तथा बोटा श्री पर्वत के नाम से प्राचीन समय में जाना जाता था और अब यह मध्यप्रदेश राज्य में स्थित है |

मंदिर निर्माण

  • साँची के स्तूप अपने प्रवेश द्वार के लिए उल्लेखनीय हैं |
  • इनमें बुध के जीवन से ली गई घटनाओं और उनके पिछले जन्म की बातों का सजावटी चित्रण है |
  • जहां गौतम बुद्ध को संकेतों द्वारा निरूपित किया गया है जैसे कि पहिया, जो उनकी शिक्षाओं को दर्शाता है साँची का प्रमुख बौद्ध स्तूप 42 फुट ऊंचा है |

साँची का इतिहास

  • यहाँ बुद्ध की शिक्षाओं से जुड़ी ऐतिहासिक सामग्री है |
  • जिसे बौद्ध धर्म में बड़े आदर के साथ पढ़ा जाता है |
  • साँची अशोक के पुत्र महेंद्र का ननिहाल था |
  • इसका निर्माण सम्राट अशोक ने कराया था |
  • यहां के अधिकतर मठ और स्तूप अशोक की धर्मपत्नी देवी ने बनवाए थे, बौद्ध धर्म में ध्यान का बड़ा महत्व है |
  • 1989 में यूनेस्को की विश्व विरासत सूची में शामिल किया गया |
  • वर्तमान समय में सांची देश का प्रमुख पर्यटक स्थल बन चुका है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *