श्री हरमंदिर साहिब ( गोल्डन टेम्पल ), अमृतसर , पंजाब

स्थल

  • श्री हरमंदिर साहिब पंजाब के अमृतसर में स्थित है |
  • यह बहुत ही प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है , इसे दरबार साहिब और स्वर्ण मंदिर भी कहा जाता है |
  • पूरा अमृतसर शहर स्वर्ण मंदिर के चारों तरफ बसा हुआ है |

मंदिर निर्माण

  • इतिहास के मुताबिक़ सिखों के पांचवे गुरु अर्जुन देव जी ने लाहौर के एक सूफी संत साई मियां मीर जी से दिसंबर १५८८ में गुरुद्वारे की नीव रखवाई थी |
  • लगभग ४०० साल पुराने इस गुरुद्वारे का नक्शा खुद गुरु अर्जुन देव जी ने तैयार किया था |
  • यह गुरुद्वारा शिल्प सौंदर्य की अनूठी मिसाल है , गुरुद्वारे के चारों ओर दरवाज़ें हैं जो चारों दिशाओं में खुलते हैं |
  • यहाँ हर धर्म के लोगों का स्वागत किया जाता है |
  • हरमंदिर साहिब परिसर में दो बड़े और कई छोटे छोटे तीर्थस्थल हैं , ये सारे तीर्थस्थल जलाशय के चारों तरफ फैले हुए हैं |
  • इस जलाशय को अमृतसर, अमृतझील, और अमृतसरोवर के नाम से जाना जाता है |
  • स्वर्ण मंदिर सफ़ेद संगमरमर से बना हुआ है और इसकी दीवारों पर सोने की पत्तियों से बहुत ही सुन्दर नक्काशी की गयी है |
  • स्वर्ण मंदिर सरोवर के बीच में मानव निर्मित झील है , जहाँ श्रद्धालु स्नान करते हैं |
  • स्वर्ण मंदिर में लंगर हर समय चलता रहता है, अनुमान है कि करीब ४० हज़ार लोग रोज़ यहाँ लंगर का प्रसाद ग्रहण करते है |
  • श्री गुरु रामदास सराय में गुरुद्वारे में आने वाले लोगों के लिए ठहरने की व्यवस्था भी है |
  • बैसाखी , लोहरी , गुरुनानक पर्व , शहीदी दिवस , संगरांद जैसे त्योहारों पर पैर रखने की जगह भी नहीं होती है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *