वैष्णो देवी मंदिर , कटरा , जम्मू & कश्मीर

स्थल

  • वैष्णो देवी मंदिर बहुत ही प्राचीन व प्रसिद्ध मंदिर है , यह जम्मू और कश्मीर के जम्मू क्षेत्र में कटरा नगर के समीप की पहाड़ियों पर स्थित है , इन पहाड़ियों को त्रिकुटा पहाड़ी कहते है |
  • यही पर ५२०० फ़ीट को ऊंचाई पर स्थित है माता रानी का मंदिर |
  • यह भारत में तिरुमला वैंकटेश्वर मंदिर के बाद दूसरा सबसे प्रसिद्ध देखा जाने वाला धार्मिक स्थल है |
  • कटरा से ही वैष्णो देवी की पैदल चढाई शुरू होती है , जो भवन तक लगभग १३ किलोमीटर है |

मंदिर निर्माण

  • त्रिकुटा की पहाड़ियों पर स्थित एक गुफा में माता वैष्णो देवी की ३ मूर्तियां पिंडी के रूप में विराजमान हैं , इन ३ पिण्डियों के सम्मिलित रूप को ही वैष्णो देवी माता कहा जाता है |
  • देवी काली, सरस्वती और लक्ष्मी पिंडी के रूप में वहां स्थापित हैं |
  • पवित्र गुफा की लम्बाई ९८ फ़ीट है |

पौराणिक कथा

  • मंदिर के सम्बन्ध में कई तरह की कथाएं प्रसिद्ध हैं, एक बार त्रिकुटा की पहाड़ी पर सुन्दर कन्या को देखकर भैरव नाथ उन्हें पकड़ने के लिए दौड़े और यहीं उस सुन्दर कन्या ( आदि शक्ति जगदम्बा ) ने भैरव नाथ का वध किया था |
  • पुरानी गुफा के पास ही भैरव नाथ का शरीर मौजूद है |
  • उसका सर उड़ कर ३ किलोमीटर दूर घाटी में चला गया |
  • जो बाद में भैरो घाटी के नाम से प्रसिद्ध हुई |
  • उसी स्थान पर भैरो नाथ का मंदिर है |
  • अपने वध के बाद भैरव नाथ को अपनी भूल का आभास हुआ और उसने माँ से माफ़ी की भीख मांगी |
  • माँ ने उससे माफ़ कर दिया और कहा कि मेरे दर्शन तब तक पुरे नहीं माने जाएंगे, जब तक कोई भक्त मेरे बाद तुम्हारे दर्शन नहीं करेगा |
  • इसलिए माँ के दर्शनों के बाद भैरो मंदिर ज़रूर जाते हैं |

|| जय माता दी ||

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *